भारतीय संस्कृति के अनोखे रिवाज और परंपराएं


भारतीय संस्कृति और परंपराएं अब पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हो गई हैं। हम सभी भारत और इसकी संस्कृति को बहुत ही विविध और अनोखे रूप में देखते हैं। भारतीय संस्कृति कई विशिष्ट रिवाजों और परंपराओं से भरा है, जो बाहरी लोगों को वास्तव में दिलचस्प लगते है। इनमें से अधिकांश प्राचीन भारतीय ग्रंथों और मूलपाठ से उत्पन्न होते हैं, जिन्होंने हजारों सालों से भारत में जीवन का मार्ग निर्धारित किया है।

1. नमस्ते

नमस्ते

नमस्ते सबसे लोकप्रिय भारतीय रिवाजों में से एक है और यह वास्तव में सिर्फ भारतीय क्षेत्र के लिए सीमित नहीं है।  यह आदर और सत्कार देने का एक तरीका है।

2. मंदिरों के पीछे का विज्ञान

मंदिरों के पीछे का विज्ञान

अधिकांश मंदिर पृथ्वी की चुंबकीय तरंग लाइनों के साथ स्थित हैं, जो उपलब्ध सकारात्मक ऊर्जा को अधिकतम करने में मदद करते हैं। मुख्य मूर्ति के नीचे दफन तांबे की थाली (जिसे गर्भग्रह या मूलस्थान कहा जाता है) और इस ऊर्जा को अपने परिवेश के प्रति प्रतिरूप बनाता है। अक्सर मंदिर जाना, सकारात्मक मन पाने में और सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त करने में मदद करता है, जिससे बदले में कामकाज स्वस्थ रहता है।

यहाँ पूजा के स्थानों में प्रवेश करने से पहले जूते उतार दिए जाते है, क्योंकि गंदगी को एक अन्यथा शुद्ध और पवित्र वातावरण में ले जाना ठीक नही है।

3. धार्मिक प्रतीक

धार्मिक प्रतीक

भारतीय परंपराओं और शास्त्रों में विभिन्न चिह्न और प्रतीक होते हैं जिनके विभिन्न अर्थ हैं। यह वास्तव में भगवान गणेश का प्रतीक है| बाधाओं को हटाने में स्वास्तिक का विभिन्न अर्थ हैं। वे चार वेद, चार नक्षत्र, या मानव के चार मूल लक्ष्य को दर्शाते हैं।

4. हमेशा एक उत्सव का माहोल

उत्सव का माहोल

भारत में विभिन्न धर्मों और समूहों के प्रसार के कारण त्योहारों की एक बड़ी संख्या भी देखी जाती है। मुस्लिम ईद मनाते हैं, ईसाई क्रिसमस और गुड फ्राइडे मानते है| इसी तरह, सिखों को बेसाखी (फसल की कटाई), और उनके गुरुओं के जन्मदिन, और हिंदूओं की दीवाली, होली, मकर सक्रीय, जैन महावीर जयंती, बुद्ध के जन्मदिन पर बुद्ध पौर्णिमा मनाते हैं।

5. संयुक्त परिवार

संयुक्त परिवार

भारत में, एक संयुक्त परिवार की अवधारणा होती है, जिसमें पूरे परिवार (माता-पिता, पत्नी, बच्चों और कुछ मामलों में रिश्तेदार) सभी एक साथ रहते हैं। यह ज्यादातर भारतीय समाज की एकजुट प्रकृति के कारण है|

6. भारतीय पहनावा

भारतीय पहनावा

भारतीय महिलाओं को अक्सर ‘साड़ियों’ में देखा जाता है| साड़ी एक कपड़ा है और इसे सिलाई की जरूरत नहीं है| यह पहनने के लिए आरामदायक है, और धार्मिक शिष्टाचार का भी पालन करता है। यह शुरू में एक हिंदू परंपरा के रूप में शुरू हुई, लेकिन सभी धर्मों में बहुत सुंदर ढंग से पहना जाता है।


Like it? Share with your friends!

4
1
4 shares, 1 point

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भारतीय संस्कृति के अनोखे रिवाज और परंपराएं

log in

Become a part of our community!

reset password

Back to
log in
Choose A Format
Gif
GIF format